રાકેશ ઠક્કરની "રેડલાઇટ બંગલો" અને "લાઇમ લાઇટ" amazon પર ઉપલબ્ધ છે."રેડલાઇટ બંગલો" storytel એપ પર ઓડિયો બુક ફોર્મમાં પણ છે. જરૂર સાંભળો. તેમની ઇબુક્સના ૭૩૩૦૦૦ ડાઉનલોડ થઇ ચૂક્યા છે. માતૃભારતીનો વર્ષ ૨૦૧૯ નો "રીડર્સ ચોઇસ એવોર્ડ" મેળવનાર લેખક રાકેશ ઠક્કરની હોરર નોવેલ "આત્માનો પુનર્જન્મ" માતૃભારતીની "લોંગ સ્ટોરી કોમ્પીટીશન-૨૦૨૦" માં વિજેતા બની છે. હોરર નોવેલ પતિ પત્ની અને પ્રેત છે. ફિલ્મોના કિસ્સાઓને રજૂ કરતી તેમની "બોલીવુડ કી બાતેં" chitrlekha.com પર અને ફિલ્મ કોલમ ગુજરાતમિત્ર દૈનિકમાં વાંચી શકો છો.


Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले ગુજરાતી शायरी
9 तास पूर्वी

એવા લોકો રોજ વધતા જાય છે આ વિશ્વમાં,
ના ભરોસો દિન ઉપર, શંકા કરે છે રાત પર.
- કિરણસિંહ ચૌહાણ

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
4 दिवस पूर्वी

मुझे जब धूप लगती है तो वो लगता है साये सा,
मुझे जब प्यास लगती है तो वो दरिया सा लगता है
अशोक रावत

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

कभी जंगल, कभी सहरा, कभी दरिया लिक्खा
अब कहाँ याद कि हमने तुझे क्या-क्या लिक्खा
शीन काफ़ निज़ाम

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

मुझे तो उम्र लगी है तुझे भुलाने में 
ये तुम पे था कि मुझे यूँ ही भूल जाओगे
 रवि सिन्हा

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

ज़िंदगी से बड़ी सज़ा ही नहीं
और क्या जुर्म है पता ही नहीं

चाहे सोने के फ्रेम में जड़ दो
आईना झूठ बोलता ही नही
- कृष्ण बिहारी 'नूर'

अजून वाचा
Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

न रस्ते का पता है कुछ न मंज़िल का ठिकाना है
न जाने कौन सी धुन है कि चलते जा रहे हैं हम
ओम प्रकाश नदीम

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

कभी घर से बाहर भी आकर तो देखो
ज़माना है क्या आज़माकर तो देखो
कुसुम ख़ुशबू

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
1 आठवडा पूर्वी

ये तेरा मेरा झगड़ा है दुनिया को बीच में क्यूँ डालें
घर के अंदर की बातों पर ग़ैरों को गवाह नहीं करते
फ़रहत एहसास

अजून वाचा
Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले हिंदी शायरी
2 आठवडा पूर्वी

कभी खुशी मिली तो कभी गम कहीं मिला
जो भी मिला किसी से कभी कम नहीं मिला |
जगदीश चंद्र ठाकुर

Rakesh Thakkar मातृभारती सत्यापित तुमचे अपडेट्स पोस्ट झाले ગુજરાતી शायरी
2 आठवडा पूर्वी

નીચે જવું નથી કદી ઊંચે જવું નથી,
ખુદને મળાય ના તો એ રસ્તે જવું નથી.
મહેશ દાવડકર