कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़, कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी।



*|सर्व मंगल्य मांगल्येँ, शिवे सर्वार्थ साधिके | शरण्ये त्र्यंबके गौरी, नारायणी नमोस्तुते | ||जगत जननी माँ जगदंबा आपको आरोग्य समृद्धि और सुख प्रदान करेँ एवं सदैव कृपा दृष्टि रखेँ ऐसी प्रार्थना ||*

*"Happy Navratri"* ❤SB

अजून वाचा