कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़, कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी।

    कोणत्याही कादंबरी उपलब्ध नाहीत.

    कोणत्याही कादंबरी उपलब्ध नाहीत.