Hey, I am on Matrubharti!



सुनो तुम हमें
*गुलाब*
दो ना दो
मगर अपने प्यार को *गुलाब*
सा महकता रखना ..
सिर्फ मेरे बनकर ही ..
मेरे साथसाथरहना..!!
बस यही है मेरी पहली और
आखिरी तमन्ना...!!
*हैप्पी रोज डे*
प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान©
सागर मध्यप्रदेश

अजून वाचा