समर्पण - १२ अनु... द्वारा कादंबरी भाग में मराठी पीडीएफ

समर्पण - १२

अनु... द्वारा मराठी कादंबरी भाग

समर्पण-१२ मेरे हर रोम मे बसर तुम्हारा है, कैसे खुद को किसी और को सोप दूँ। प्यार और फर्ज की लड़ाई मे, फर्ज निभना ही है प्यार का दस्तुर। मी आणि विक्रम जेंव्हा जेंव्हा भेटलो आमचं बोलणं अभय आणि ...अजून वाचा

इतर रसदार पर्याय