स्पर्श - अनोखे रूप हे ( भाग 10 ) Siddharth द्वारा प्रेम कथाएँ में मराठी पीडीएफ

स्पर्श - अनोखे रूप हे ( भाग 10 )

Siddharth द्वारा मराठी प्रेम कथा

लाखो दुवाओ किस्मत से लढकर इस पल मे पाया है तुझे .. लगा था हर घाव दिलं पे यु तिर की तरह फिरभी सब कुछ भुलकर अपना बणाया है तुझे अब तो , ना तकरार है ना है किसींसे ...अजून वाचा

इतर रसदार पर्याय