स्पर्श - अनोखे रूप हे ( भाग 29 ) Siddharth द्वारा प्रेम कथा मराठी में पीडीएफ

स्पर्श - अनोखे रूप हे ( भाग 29 )

Siddharth द्वारा मराठी प्रेम कथा

मेहकी है मेरी हर शाम मेरी सुबहँमे भी तो तेरा जीक्र है मैं ना रही हु तुझसे मिलन के बाद ये इशक का कैसा असर है खो चुकी हु तेरेही बातो मे तेरे खयाल मे ही गुम रेहना आदत ...अजून वाचा

इतर रसदार पर्याय