अधांतर - २५ (अंतिम भाग) अनु... द्वारा सामाजिक कथा मराठी में पीडीएफ

अधांतर - २५ (अंतिम भाग)

अनु... मातृभारती सत्यापित द्वारा मराठी सामाजिक कथा

"फूलों में ढली हुई ये लड़कीपत्थर पे किताब लिख रही है।फूलों की ज़ुबान की शायरा थीकाँटों से गुलाब लिख रही है।"आज जेंव्हा स्वतःच्या आयुष्याचा प्रवास पाहते तेंव्हा उर्दू गझलकारा इशरत आफ़रीं यांच्या या ओळी आठवतात...आज असं बघितलं तर सगळंच ...अजून वाचा

इतर रसदार पर्याय